December 2, 2022

World War History in Hindi – क्यों हुआ था प्रथम विश्व युद्ध?

WORLD HISTORY PART-2

अमेरिका का स्वतंत्रता संग्राम अमेरिका स्वतंत्रता संग्राम के नायक जॉर्ज वाशिंग्टन थे, जो बाद में अमेरिका के प्रथम राष्ट्रपति बने| अमेरिका को पूर्ण स्वतंत्रता 4 जुलाई 1776 ई. को मिली| 1773 ई. में इस्ट इंडिया कपनी का ची से लदा एक जहाज बोस्टन पहुंचा| बोस्टन के नारिकों ने जहाज से चाय की पेटियों को 16 दिसम्बर 1773 ई. को समुद्र में फेंक फिया| इस घटना को बोस्टन टी-पार्टी के नाम से जाना जाता है|

अमेरिका का स्वतंत्रता युद्ध 1783 ई. में पेरिस की संधि के तहत समाप्त हुआ| अमेरिका स्वंतन्त्रता संग्राम के दौरान अमेरिका वासियों का नारा था ‘प्रतिनिधित्व नहीं तो कर नहीं’|अमेरिकन फिलोसोफिकल सोसाईटी की स्थापना बेंजामिन फ्रेंकलिन ने की| संसार में सर्वप्रथम लिखित सविंधान स्युक्न्त राज्य अमेरिका में 1789 ई. में लागू हुआ| फ्रांस की राज्य क्रान्ति 1789 ई. में फ़्रांस की राज्य क्रान्ति लुई सोलहवें के शासन काल में हुयी| स्टेट्स जनरल की शुरुआत 5 मई 1789 को हुयी थी| इसी दीन फ़्रांसिसी क्रांति का श्रीगणेश हुआ था|

14 जुलाई 1789 को क्रांतिकारियों ने बास्तिल के जेल के फाटक को तोड़ बंदियों के मुक्त कर दिया| सामाजिक समानता, सामन्तीय विशेषधिकारों का अंत निरकुंश तथा भ्रष्ट प्रशाशन में सुधार न्याय तथा करों में सुधार| समानता के उदेश्यों को पाने के लिए ही इस क्रांति की शुरुआत की गयी थी|

समानता स्वतंत्रता और बंधुत्व का नारा फ्रांस की राज्यक्रांति की देन है| फ्रांसीसी क्रांति में वाल्टेलेयर मोंटेसग्यू एवं रूसो ने सर्वाधिक योगदान दिया| वह वाल्टलेयर चर्च का विरोधी था| रूस  प्रजातंत्रात्मक शासन पद्धति का समर्थक था|

फ्रांस की राजधानी वर्साय को लुई चौदवां ने बनवाया था|  ट्रैफिलेगर का युद्ध 21 अक्टूबर 1805 में इंग्लैंड एवं नेपोलियन के बीच हुआ था| नेपोलियन ने कानूनों का संग्रह तैयार करवाया जिसे नेपोलियन कोड कहा जाता है|1815 वाटर लू का युद्ध उसके जीवन काल का अंतिम युद्ध था, जिसमें उसे पराजय मिली और उसे आत्मसमर्पण करना पड़ा|

उसके पतन का कारण उसका रूस पर आक्रमण करना था| उसे सेंट हेलेना द्वीप भेज दिया गया जहाँ 1821 ई. उसकी मृत्यु हो गई|

 

आद्योगिक क्रांति 

विश्व में सर्वप्रथम औद्योगिक क्रांति इंग्लैंड में हुई क्योंकि इंग्लैंड के पास अधिक उपनिवेशओं के कारण पर्याप्त कच्चे माल और पूंजी की अधिकता थी| 1815 ईस्वी में जॉर्ज स्टीफेंस ने रेल द्वारा खानों से बंदरगाह तक कोयला ले जाने के लिए भाप इंजन का प्रयोग किया| औद्योगिक क्रांति के दौर में जर्मनी इंग्लैंड का प्रतिद्वंदी था|

 

जर्मनी का एकीकरण

जर्मनी का एकीकरण बिस्मार्क ने लौह एवं रक्त की नीति के अनुसरण करते हुए क्या| बिस्मार्क प्रशा के शासक विलियम प्रथम का प्रधानमंत्री का जर्मनी में राष्ट्रीयता की भावना जगाने का श्रेय नेपोलियन बोनापार्ट को है| नेपोलियन ने छोटे-छोटे राज्यों को मिलाकर 39 राज्यों का एक संघ बनाया जिसे राईनसंघ कहा जाता है|

 

1815 से 1850 ईस्वी के बीच जर्मन साम्राज्य पर ऑस्ट्रेया का अधिपत्य था| एकीकरण के अंतिम चरण में प्रशा  एवं फ्रांस के मध्य में युद्ध हुआ, जिसमें फ्रांस की पराजय हुई तथा दोनों में फ्रैंकफर्ट की संधि हुई| प्रशा का राजा विलियम प्रथम जर्मन सम्राट बना|

 

उसे कैंसर की उपाधि से विभूषित किया गया| एकीकृत जर्मन राष्ट्र के निर्माण में राके, बोमर, लसर इत्यादि दार्शनिकों ने इत्यादि युद्ध के बाद जर्मनी का एकीकरण संभव हो सका|

 

इटली का एकीकरण 

इटली के एकीकरण का जनक जोसेफ मेजनी को माना जाता है| गिबर्ती ने कर्बोनेरी नामक गुप्त संस्था की स्थापना की थी| इटली की एकता का जन्मदाता नेपोलियन था| इटली के एकीकरण का मार्ग में ऑस्ट्रिया सबसे बड़ा बाधक था| 

 

1871 ई. में प्रशा एवं फ़्रांस के बीच युद्ध का लाभ उठाकर रोम पर अधिकार करके उसे इटली की राजधानी बनाया| यह एकीकरण का चतुर्थ एवं अंतिम चरण था|इटली के एकीकरण की तलवार गैरीबाल्डी को कहा जाता है| इसने ‘लाल कुर्ती’ नाम से सेना का सगठन किया| 

 

प्रशा एवं फ़्रांस के बीच युद्ध का लाभ उठाकर रोम पर अधिकार करके, उसे इटली की राजधानी बनाया गया| इसका चतुर्थ एवं अंतिम एकीकरण 1871 ई. में काउंट कैबुर ने किया| 

 

प्रथम विश्वयुद्ध 

प्रथम विश्वयुद्ध की शुरुआत 28 जुलाई 1914 को हुयी| इसका तत्कालीन कारण ऑस्ट्रिया के राजकुमार फर्नाडिस की बोंस्निया की राजधानी स्राजेवा में की गयी हत्या थी| 

 

प्रथम विश्व युद्ध में सम्पूर्ण विश्व दो खेमों में बंट गया-मित्र राष्ट्र एवं धुरी राष्ट्र| धुरी राष्ट्रों का नेतृत्व जर्मनी ने किया, इसमें ऑस्ट्रिया, हंगरी, इटली आदि शामिल थे| जबकि मित्र राष्ट्रों में इंग्लैण्ड जापान , स्युक्न्त राज्य अमेरिका, रूस एवं फ़्रांस शामिल थे| 

 

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान जर्मनी ने रूस पर आक्रमण 1 अगस्त, 1914 में एवं फ़्रांस पर आक्रमण 3 अगस्त, 1914 मे किया|  प्रथम विश्वयुद्ध की समाप्ति 11 नवबर 1918 को पेरीस शांति सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो वेल्सन , ब्रिटिश प्रधानमंत्री लायड जार्ज तथा फ़्रांसिसी प्रधानमंत्री जॉर्ज क्लेसोमो की भूमिका महत्वपूर्ण थी| वर्साय की संधि 28 जून 1919 को जर्मनी के साथ हुयी| 

 

युद्धोंप्रान्त विश्व में शांति की स्थापना के लिए अंतर्राष्ट्रीय संस्था राष्ट्र संघ की स्थापना वर्ष 1920 में की गयी| 

 

रुसी क्रांति 

रूस के शासक को जार कहा जाता थ| यह जारशाही व्यवस्था मार्च 1917 में रुसी क्रांति के फलस्वरूप समाप्त हुयी| रुसी क्रांति का तत्कालीन कारण प्रथम विश्व युद्ग में रूस की पराजय थी| एक जार एक चर्च और एक रूस का नारा जार निकोलस द्वितीय ने दिया था| रूस में साम्यवाद की स्थापना 1898 ई. में हुयी थी|

 

रूस में सबसे अधिक जनसंख्या स्लाव लोगों की थी| आधुनिक रूस का निर्माता स्टालिन को माना जाता है| बोल्शेविकों ने एक नई सरकार का गठन किया जिसका अध्यक्ष लेनिन बना तथा ट्राटस्की को विदेश मंत्री बनाया गया| 

 

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान लेनिन का नारा था ‘युद्ध का अंत करो’ | कालर्स मार्क्स का आजीवन साथी रहा फेडरिक एंजेल्स दुनिया के मजदूरों एक हो का नारा कालर्स मार्क्स ने दिया| 

 

चीनी क्रांति

वर्ष 1905 में स्न्यात सेन ने तुंग-मेंग हुयी पार्टी का गठन किया, जिसका उद्देश्य चीन में मांचू वश के शासन को समाप्त करना था| वर्ष 1911 में हुयी चीनी क्रांति का नायक सनयात सेन था| इस क्रांति के बाद चीन ने गणतंत्र शासन पद्धति की स्थापना हुयी| डॉ सनयात सेन ने वर्ष 1912 ने तुंग-मेंग हुयी पार्टी का नाम बदलकर कुओंमितांग रखा| चीनी साम्यवादी गणतंत्र का प्रथम अध्यक्ष माओत्से तुंग था| 

 

द्वितीय विश्व युद्ध 

द्वितीय विश्व युद्ध की शरुआत 1 सितम्बर 1939 को हुयी| इसका तत्कालीन कारण जर्मनी द्वारा पोलैंड पर आक्रमण था| यह युद्ध 6 वर्षो तक चला| 14 अगस्त 1945 को जापान के आम्त्स्मर्पण के बाद युद्ध बंद हुआ| 

 

इस युद्ध में एक ओर सोवियत रूस, इंग्लैंड ,फ़्रांस, अमेरिका चीन तथा अन्य राष्ट्र थे| इन्हें मित्र राष्ट्र कहा जाता था| दूसरी ओर जर्मनी, जापान तथा इटली थे| जिन्हें धुरी राष्ट्र कहा जाता है| 

 

द्वितीय विश्व युद्ध के समय इंग्लैड के प्रधानमंत्री विस्टन चर्चिल एवं अमेरिका के राष्ट्रपति फ्रैंकलीन डी रुवेल्ट थे| इस विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका ने 6 अगस्त 1945 को जापान के शहर हिरोशिमा पर फैटमेन एटम बम और 9 अगस्त 1945 को नागासाकी पर लिटल बॉय नामक एटम बम का प्रयोग किया| द्वितीय विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्रों द्वारा पराजित जोने वाला अंतिम देश जापान था| 

 

अंतराष्ट्रीय क्षेत्र में विश्वयुद्ध का सबसे बड़ा योगदान स्युक्न्त राष्ट्र संघ की स्थापना था| 

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

View all posts by study4upoint →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *