विश्व मानवाधिकार दिवस 2021 – World Human Rights Day in Hindi

World Human Rights Day in Hindi

दोस्तों एक बार फिर से आपका हमारी वेबसाईट स्वागत है| आज हमने इस लेख में World Human Rights Day in Hindi के बारे में जानकारी साझा की है| आज हमने इस लेख में World Human Rights Day in Hindi के बारे में जानकारी साझा की है| यह लेख World Human Rights Day in Hindi आपके आने वाली सभी सरकारी प्रतियोगिताओं के दृष्टिकोण से काफी सहायक सिद्ध हो सकती है| इस लेख में हमने विश्व के सभी लोगों को उनके अधिकारों एक बारे में जानकारी साझा की है|

विश्व मानवाधिकार दिवस 2021

मानवाधिकार दिवस 2021 10 दिसम्बर शुक्रवार को मनाया जाएगा| 1948 में पहली UNO की महासभा के द्वारा 10 दिसम्बर हो प्रत्येक वर्ष को मनाए जाने की घोषणा की गई थी| इसे सर्वभौमिक मानव अधिकार घोषित करने लिए UNO (संयुक्त राष्ट्र) महासभा के सम्मान में प्रतिवर्ष इसे विशेष तिथि पर मनाया जाता है| संयुक्त राष्ट्र की बैठक में मानवअधिकार दिवस की अधिकारिक तौर पर 1950 में 4 दिसम्बर को स्थापित किया गया था|

UNO की बैठक में 10 दिसम्बर मानवाधिकार दिवस के अवसर पर मानवाधिकारों के लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा| इसके साथ ही लोगो को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए उनमे कैरी बैग भी बांटे जायेंगे|
पुरे विश्व विश्व में गरीबी मानव अधिकारों के हनन का सबसे बड़ा कारण है, इसलिए गरीबी को खत्म कर जरूरी सुविधाएँ उपलब्ध कराए बिना मानव अधिकार के प्रति लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है| गरीबी की इसी गंभीर समस्या को देखते हुए विश्व मानवधिकार दिवस पर कई सारे गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा गरीबी से लड़ने के रुपरेखा तैयार की जायेगी, इसके साथ ही शोषित समाज के लोगों के उनके मानवधिकारों के विषय में जानकारी देकर उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया जाएगा|

प्रमुख मानवाधिकार

मानवाधिकार अधिकार का अर्थ उन मूल अधिकारों से है, जो सभी को समान रूप से जीवन जीने, स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और एक समान व्यवहार की प्राप्ति का अधिकार प्रदान करता है| कुछ ऐसे मौलिक अधिकार है, जो हर व्यक्ति के लिए आवश्यक है, यह नियम कानून युद्ध बंदियो, कैदियों से लेकर आम नागरिकों तक के लिए बनाए गये है|
प्रमुख मानवाधिकार निम्न है –
1.बोलने की आजादी
2.आजादी और सुरक्षा का अधिकार
3.आर्थिक शोषण के खिलाफ आवाज उठाने का अधिकार
4.रंग,नस्ल,भाषा, धर्म के आधार पर समानता का अधिकार
5.कानून के सामने समानता का अधिकार
6.कानून के सामने अपना पक्ष रखने का अधिकार
7.अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार

मानवाधिकार दिवस मनाने का मुख्य लक्ष्य या उद्देश्य

मानवाधिकार दिवस मनाने का मुख्य लक्ष्य या उद्देश्य मानव जीवन से गरीबी का उन्मूलन और जीवन को अच्छी तरह से जीने में मदद करना है। विभिन्न कार्यक्रम जैसे: संगीत, नाटक, नृत्य, कला सहित आदि कार्यक्रम लोगों को अपने अधिकारों को जानने में मदद करने और ध्यान केन्द्रित करने के लिये आयोजित किये जाते हैं।
पुरे विश्व में लोगों के बीच में मानव अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए यह दिवस मनाया जाता है| मानव अधिकारों के विशिष्ट मुद्दों को उजागर करने के लिए सहयोग और चर्चा करना इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है| इसमें अल्पसंख्यक समूहों जैसे: महिलाओं, नाबालिगों, युवाओं, गरीबों, विकलांग व्यक्तियों और आदि अन्य को राजनीतिक निर्णय लेने में भाग लेने और मनाने के लिये प्रोत्साहित करना।

मानवाधिकार दिवस के मुख्य बिंदु

-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार दिवस प्रतिवर्ष 10 दिसम्बर को मनाया जाता है|
-संयुक्त राष्ट्र ने 1948 में मानवाधिकार दिवस के ही दिन वैश्विक उद्धोषणा के सबंध में अग्रणी और प्रमुख उपलब्धियां हासिल की|
-जिस दिन संयुक्त राष्ट्र ने 1948 में मानवाधिकार की सार्वभौम घोषणा को अपनाया, उस दिन मानाधिकार दिवस के रूप में मनाया जाता है|
-हर साल मानवाधिकार दिवस के अवसर पर कई कदम उठाए जाते है|
-व्यक्ति की दौनिक गतिविधियों को मानवाधिकार को बनाए रखना और उनकी रक्षा करनी चाहिए|
-मौलिक मानवाधिकारों के लिए खड़े होने की पवित्र प्रथा इस दुनिया के एक बेहतर रहने की जगह बनाएगी
परिवर्तन लाने की दिशा में युवा सक्रिय रूप से सलंगन है: इसलिए मानवाधिकार दिवस में उनकी भागीदारी महत्वपूर्ण है|
-कम उम्र से ही मानवाधिकारों के बारे में पढ़ाना बुद्धिमानी है ताकि दुनिया एक बेहतर कल देख सके|
-सभी एक लिए एक सतत विकास प्राप्त करने के लिए मानवाधिकार दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते है|
-मानवाधिकारों ने केंद्रीय महत्व दिया गया है कि संयुक्त राष्ट्र एंजेसियां काम करने का प्रयास करती है|
-नागरिकों को राज्य की सम्पति बनाने के लिए संघर्ष करना हमारे लिए वास्तविक संघर्ष है|
-हम में से बहुत से मानवाधिकारों और कलात्मक स्वतंत्रता की परवाह में रंगने के लिए प्रोत्साहित करते है|
-आम लोगों के उनके मानवअधिकारों से वंचित करना उनके द्वारा मानवता को बहुत बड़ी चुनौती है|
-युद्ध के समय नियम शांत होते है|
-ज्ञान एक आदमी को एक गुलाम होने के लिए अयोग्य बनाता है|
-जब भी पुरुषों और महिलाओं को उनकी जाति, धर्म, या राजनीतिक विचारों की वजह से सताया जाता है, वो जगह उस पल में ब्रह्मांड का केंद्र बन जाना चाहिये।
-सबसे बड़ी त्रासदी बुरे व्यक्तियों का अत्याचार और दमन नहीं बल्कि इस पर अच्छे लोगों का मौन रहना है।
-आप मानवाधिकारों को अधिकृत नहीं कर सकते|
-दूसरों को बढ़ावा देने के लिए अपनी स्वतंत्रता का उपयोग करे|
-स्वास्थ्य एक मानवीय आवश्यकता है, स्वास्थ्य एक मानव अधिकार है।
-किसी एक के खिलाफ अन्याय प्रतिबद्ध हर किसी के लिए एक खतरा है।

दोस्तों जानकारी अच्छी लगी हो तो उसे शेयर करना न भूले| अगर इस लेख में कोई त्रुटी दिखाई दे तो आप हमें कमेंट भी कर सकते है|

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से स्नातक Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.