November 28, 2022

विश्व हिंदी सम्मेलन – World Hindi Day, World Hindi Summit in Hindi

World Hindi Summit in Hindi

दोस्तों आपका हमारी वेबसाईट  में स्वागत है| इस लेख में हमने World Hindi Summit in Hindi के बारे में जानकारी साझा की है | इस इस लेख में हमने विश्व हिंदी सम्मेलन के बहुत जरूरी World Hindi Day के बारे में जानकारी साझा कि है | जो आपके आने वाली सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के दृष्टिकोण से काफी जरूरी है | आपको आने वाली सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं |

हिंदी भाषा का विकास 

वर्गीकरण 

– ‘हिंदी’ विश्व की लगभग 3,000 भाषाओँ में से एक है|

– आकृति या रूप के आधार पर हिंदी वियोगतात्म्क या विशिल्ष्ट भाषा है|

– भाषा परिवार के आधार पर हिंदी भारोपीय परिवार की भाषा है|

– भारत में 4 भाषा परिवार है- भारोपीय, द्रविड़, ऑस्ट्रिक व चीनी तिब्बती मिलते है| भारत में बोलनेवालो के प्रतिशत के आधार पर भारोपीय परिवार सबसे बड़ा परिवार है| 

– हिंदी भारोपीय/ भारत यूरोपीय इरानी शाखा के भारतीय आर्य उपशाखा की एक भाषा है|

आधुनिक भारतीय आर्य भाषा

 हिंदी के आदि जननी संस्कृत है संस्कृत पाली, प्राकृत भाषा से होती हुयि अपभ्रंश तक पहुंचती है| फिर अपभ्रंश अवहट्ट से गुजरती हुयि प्राचीन/प्रारम्भिक हिंदी का रूप लेती है| सामान्यत: हिंदी भाषा के इतिहास का आरम्भ अपभ्रंश है| 

हिंदी का विकास क्रम

संस्कृत-पाली-प्राकृत-अपभ्रंश-अवहट्ट-प्राचीन/प्रारम्भिक हिंदी

अपभ्रंश- अपभ्रंश भाषा का विकास 500 एचपी से लेकर 1000 ईसवी के मध्य हुआ और इसमें साहित्य का आरंभ आठवीं सदी से हुआ जो तेरहवीं सदी तक जारी रहा|

अवहट्ट- अवहट्ट ‘अपभ्रष्ट शब्द का विकृत रूप है| इसे अपभ्रंश का अपभ्रंश या परवर्ती अपभ्रंश कह सकते है| अवहट्ट अपभ्रंश और आधुनिक भारतीय आर्यभाषओं के बीच की संक्रमणकालीन/ संक्रांतिकालीन भाषा है| इसका काल खंड 900 ई. से 1100 ई. तक निर्धारित किया जाता है| वैसे साहित्य में इसका प्रयोग 14 वीं सदी तक होता रहा है|

हिंदी शब्द की व्यूत्पत्ति

हिंदी शब्द की व्युत्पत्ति भारत के उत्तर पश्चिम में प्रवहमान और सिंधु नदी से संबंधित है| विदित है कि अधिकांश विदेशी यात्री और आक्रांता उत्तर-पश्चिम सीमा द्वार से भी भारत आए| भारत में आने वाले विदेशियों ने जिस देश के दर्शन किये वह सिंधु का देश था| ईरान (फारस) भारत के साथ भारत के बहुत प्राचीन काल से ही अच्छे संबंध थे और ईरानी ‘सिंधु’ को हिंदू कहते थे| हिंदू से हिंद शब्द बना इस प्रकार ‘हिंदी’ का अर्थ है ‘हिंद का इस प्रकार हिंदी शब्द की उत्पत्ति हिंद देश के निवासियों के अर्थ में हुई|

विश्व हिंदी सम्मेलन

स्वतंत्रता के बाद हिंदी का राजभाषा के रूप में विकास 

राजभाषा क्या है?

– राजभाषा का शाब्दिक अर्थ है- राज-काज की भाषा| जो भाषा देश के राजकीय कर्यों के लिये प्रयुक्त होती है| वह राजभाषा कहलाती है| राजाओं-नवाबों के जमाने ने इसे ‘दरबारी भाषा’ कहा जाता था|

-राजभाषा सरकारी काम-काज चलाने की आवश्यकता की उपज है| 

-स्व्शासन आने के पश्चात राजभाषा की आवश्यकता होती है| प्राय: राष्ट्रभाषा ही स्व्शासन आने के पश्चात् राजभाषा बन जाति है| भारत में भी राष्ट्रभाषा हिंदी को राजभाषा का दर्जा प्राप्त हुआ| 

-राजभाषा एक संवैधानिक शब्द है| हिंदी को 14 सितंबर 1949 ई. को संवैधानिक रूप से राजभाषा घोषित किया गया| इसलिए प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है| 

– राजभाषा देश को अपने प्रशाशनिक लक्ष्यों के द्वारा राजनितिक-आर्थिक ईकाई को जोड़ने का काम करती है| अर्थात राजभाषा की प्राथमिक शिक्षक राजनीतिक प्रशासनिक एकता कायम करना है|

– राज भाषा का प्रयोग क्षेत्र सीमित होता है| वर्तमान समय में भारत सरकार के कार्यालयों एवं कुछ राज्यों हिंदी क्षेत्र के राज्यों में राज-काज हिंदी में होता है|  अन्य राज्य सरकारें अपनी अपनी भाषा में कार्य करती है| हिंदी में नहीं महाराष्ट्र मराठी में, पंजाब पंजाबी में, गुजरात गुजराती में आदि|

– राजभाषा कोई भी भाषा हो सकती है, जैसे दिल्ली सल्तनत काल से लेकर मैकाले के काल तक फ़ारसी राजभाषा तथा मैकाले के काल से लेकर स्वतंत्रता प्राप्ति तक अंग्रेजी राजभाषा थि जो कि एक विदेशी भाषा थी| स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया जो कि स्वभाषा है| 

-राजभाषा का एक निश्चित मानक स्वरूप होता है| जिसके साथ छेड़छाड़ या प्रयोग नही किया जा सकता| 

World hindi day

संसद में प्रयोग की जाने वाली भाषा 

संसद का कार्य हिंदी में या अंग्रेजी में किया जाएगा परंतु यथास्थिति लोकसभा अध्यक्ष या राज्यसभा का सभापति किसी सदस्य को उसकी मात्री भाषा में सदन को संबोधित करने की अनुमति दे सकता है| संसद विधि द्वारा अन्यथा उपबंध ना करें तो 15 वर्ष की अवधि के पश्चात ‘या अंग्रेजी शब्दों’ का लोप किया जा सकेगा|

राज्यविधान मंडल में प्रयोग की जाने वाली भाषा

राज्यों के विधान मंडलों का कार्य अपने अपने राज्य की राजभाषा या राजभाषाओं में या हिंदी में या अंग्रेजी में किया जाएगा| परंतु यथास्थिति विधानसभा अध्यक्ष या विधान परिषद कहां सभापति किसी सदस्यों को उसकी मातृ भाषा में सदन को संबोधित करने की अनुमति दे सकता है| संसद विधि द्वारा उपबंध ना करें तो 15 वर्ष की अवधि के पश्चात या अंग्रेजी में शब्दों का लोप किया जा सकेगा|

राजभाषा 

संघ की भाषा 

– संघ की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी होगी| अंको का रूप भारतीय अंकों का अंतरराष्ट्रीय रूप होगा|

-इस संविधान के प्रारंभ से 15 वर्ष की अवधि तक उन सभी शासकीय प्रयोजनों के लिए अंग्रेजी भाषा का प्रयोग किया जाता रहेगा जिनके लिए पहले प्रयोग किया जा रहा था|

-परंतु राष्ट्रपति उक्त अवधि के दौरान संघ के शासकीय प्रयोजनों में से किसी के लिए अंग्रेजी भाषा के अतिरिक्त हिंदी भाषा का और भारतीय अंकों के रूप में अंतरराष्ट्रीय रूप के अतिरिक्त देवनागरी का प्रयोग प्राधिकृत कर सकेगा|

हिंदी के विकास के लिए निर्देश

संघ का यह कर्तव्य होगा कि वह हिंदी भाषा का प्रसार बढ़ाए उसका विकास करें जिससे वह भारत की सामासिक संस्कृति के सभी तत्वों की अभिव्यक्ति का माध्यम बन सके और उसकी प्रकृति में हस्तक्षेप किए बिना हिंदुस्तान में और आठवीं अनुसूची में भारत की अन्य भाषाओं में प्रयुक्त रूप,शैली और पदावली को आत्मसात करते हुए जहां आवश्यक हो वहां उसके शब्द भंडार के लिए मुख्य संस्कृत से और अन्य भाषाओं के शब्द ग्रहण करते हुए उसकी समृद्धि सुनिश्चित करें|

आठवीं अनुसूची (भाषाएं) 

8 वीं अनुसूची में सविंधान द्वारा मान्यता प्राप्त 22 प्रादेशिक भाषाओ का उल्लेख है| 1950 में जब सविंधान लागु हुआ| तब 8 वीं अनुसूची में 14 भाषाएं थी| जो आज बढकर लागू हुयि है| 

इस अनुसूची में आरम्भ में 14 भाषाएं (1.असमिया 2.बांग्ला 3.गुजरती 4.हिंदी 5.कन्नड़ 6.कश्मीरी 7.मलयालम 8.मराठी 9.उड़िया 10.पंजाबी 11.संस्कृत 12. तमिल 13.तेलगु 14.उर्दू) थी| बाद में सिन्धी को (21 वां संशोधन 1967 ई.) तत्पश्चात कोंकणी, मणिपुरी, नेपाली को (71 वां संशोधन 1992 ई.) शामिल किया गया, जिससे इसकी संख्या 18 हो गयी| तदुपरांत बोडों, डोगरी मैथली, संथाली को (92वां संशोधन 2003) शामिल किया गया और इस प्रकार इस अनुसूची में 22 भाषाएँ हो गयी| 

विश्व हिंदी सम्मेलन 2022

10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस (World Hindi Day 2022) मनाया जाता है. इसे मनाने का उद्देश्य हिंदी भाषा के प्रति जागरूकता को बढ़ाना है. पहली बार विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी 2006 को मनाया गया था, तब से हर साल इसे इसी तारीख पर इसे मनाया जाता है |

 

1- हिंदी किस भाषा परिवार की भाषा है? 

a भारोपीय     b द्रविड़ 

c ऑस्ट्रिक     d चीनी-तिब्बती

 

2- भारत ने सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषा कौन-सी है?

a हिंदी     b संस्कृत   c तमिल    d उर्दू 

 

3- ‘हिंदी’ भाषा का जन्म हुआ है-

a अपभ्रंश     b लौकिक संस्कृत से 

c पाली-प्राकृत    d वैदिक संस्कृत से 

 

4- निम्नलिखित में से कौन सी बोली अथवा भाषा हिंदी के अंर्तगत नहीं आती है?

a कन्नौजी   b बांगरू    c अवधि     d तेलुगु 

 

5- निम्नलिखित में से कौन-सी भाषा देवनागरी लिपि में लिखी जाती है?

a गुजराती     b उड़िया     c मराठी      d सिंधी 

 

6- हिंदी भाषा किस लिपि में लिखी जाती है-

a गुरुमुखी     b ब्राह्मी      c देवनागरी      d सौराष्ट्री 

 

7- भाषाई आधार पर सर्वप्रथम किस राज्य का गठन हुआ?

a पंजाब    b जम्मू-कश्मीर 

c राज्यस्थान     d आंध्र प्रदेश 

 

8- किस तिथि को हिंदी को राजभाषा बनाने का निर्णय लिया?

a 15 अगस्त, 1947 ई.       b 26 जनवरी, 1950 ई.

c 14 सितम्बर, 1949 ई.     d 14 सितम्बर, 1950 ई.

 

9- भारतीय सविंधान की 8 वीं अनुसूची में शामिल भाषाओँ कि संख्या है?

a 14     b 15     c 18     d 22 

 

10- ‘विश्व हिंदी दिवस’ किस दिन जाता है?

a 10 जनवरी    b 10 फरवरी 

c 14 सितंबर    d 14 नवंबर 

World Hindi Summit in Hindi
World Hindi Summit in Hindi

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

View all posts by study4upoint →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *