Vowels and Consonants in hindi – हिंदी वर्णमाला स्वर और व्यंजन)

हिंदी भाषा का इतिहास

Vowels and Consonants in hindi

भाषा संस्कृत के ‘भाष’ शब्द से बना है| भाष का अर्थ है बोलना| भाषा की सार्थक इकाई वाक्य है| वाक्य से छोटी इकाई उपवाक्य, उपवाक्य से छोटी इकाई पदबंध, पदबंध से चोटी इकाई पद (शब्द), पद से छोटी इकाई अक्षर और अक्षर से छोटी इकाई ध्वनी या वर्ण है| 

वर्णमाला 

वर्ण:- भाषा की सबसे छोटी इकाई ध्वनी या वर्ण है| ध्वनी वर्ण का उच्चरित (कथित) रूप है और वर्ण, ध्वनी का लिखित रूप| 

 

मानक हिंदी वर्णमाला 

मूलत: हिंदी में उच्चारण के आधार पर 45 वर्ण (10 स्वर + 35 व्यंजन ) एवं लेकन के आधार पर 52 वर्ण (13 स्वर + 35 व्यंजन + 4 सयुंक्त व्यंजन) है| 

 

स्वर : अ  आ  इ  ई  उ   ऊ (ऋ) ए  ऐ ओ  औ (अं) (अ:) 

 

व्यंजन : 

क वर्ग – क ख  ग घ ड

च वर्ग – च छ ज झ

ट वर्ग – ट ठ ड ढ ण (द्विगुण व्यंजन- ड ढ )

त वर्ग – त थ द ध न 

प वर्ग – प फ ब भ म 

अंत: स्थ – य र ल व 

उष्म – श ष स ह 

सयुंक्त व्यंजन (क्ष त्र ज्ञ श्र ) 

 

                                       स्वर

 स्वर- स्वतंत्र रूप से बोले जाने वाले वर्ण ‘स्वर’ कहलाते हैं| परंपरागत रूप से इनकी संख्या 13 मानी गई है| उच्चारण की दृष्टि में इनमें केवल 10 ही स्वर है| अ  आ  इ  ई  उ  ऊ ए  ऐ ओ  औ |

 

स्वरों का वर्गीकरण

1- मात्रा या उच्चारण के आधार पर

हस्व स्वर– जिनके उच्चारण में कम समय लगता है| (अ इ  उ)  |

 

दीर्घ स्वर– जिनके उच्चारण में ह्स्र्व स्वर  से अधिक समय लगता है| (आ ई ऊ  ए  ऐ ओ  औ) 

 

प्लुत स्वर –  जिनके उच्चारण में दीर्घ स्वर से भी अधिक समय लगता है| किसी को पुकारने या नाटक के संवादों में इसका प्रयोग किया जाता है| 

 

2- जीभ के आधार पर

अग्र स्वर – जिन स्वरों के उच्चारण में जीभ का अगला भाग काम करता है| (इ  ई  ए  ऐ) |

 

मध्य स्वर – जिन स्वरों के उच्चारण में जीभ का मध्य भाग काम करता है| (अ) |

 

पश्च स्वर – जिन स्वरों के उच्चारण में जीभ का पिछला भाग काम करता है| (आ उ ऊ ऐ ओ  औ )|

 

3- मुख द्वार के खुलने के आधार पर 

विवृत – जिन स्वरों के उच्चारण में मुख द्वार पूरा खुलता है| (आ) 

 

अर्ध विवृत – जिन स्वरों के उच्चारण में मुख द्वार आधा खुलता है| ( अ ए ओ  औ)

अर्ध संवृत – जिन स्वरों के उच्चारण में मुख द्वार आधा बंद रहता है| (ए औ)

 

संवृत – जिन स्वरों के उच्चारण में मुख द्वार लगभग बंद रहता है| (इ  ई उ  ऊ )

 

4- ओंठों की स्थिति के आधार पर 

अवृत मुखी – जिन स्वरों के उच्चारण में ओंठ वृत्तमुखी या गोलाकार नहीं होते है| (अ  आ  इ  ई  ए  ऐ)

 

वृत्त मुखी – जिन स्वरों के उच्चारण में ओंठ वृत्तमुखी या गोलाकार होते है| (उ   ऊ ओ  औ अ:) 

 

5- हवा के नाक व मुहं से निकलने के आधार पर

 

मौखिक स्वर – जिन स्वरों के उच्चारण में हवा केवल मुह से निकलती है| (अ आ इ आदि) |

 

अनुनासिक स्वर – जिन स्वरों के उच्चारण में हवा मुह के साथ साथ नाक से भी निकलती है| (अं आं इं )

 

6- घोषत्व के आधार पर – घोष का अर्थ है स्वरतन्त्रियों में स्वाश का कंपन| स्वरतंत्री में जब कंपन होता है तो ‘सघोष’ ध्वनियाँ उत्पन्न होती है| सभी स्वर ‘सघोष’ ध्वनियाँ होती है| 

 

 7- प्राणत्व के आधार पर – प्राण का अर्थ है -हवा | सभी स्वर अल्पप्राण होते है| यानी उनके उच्चारण में मुख से कम हवा निकलती है| 

                                 व्यंजन

स्वर की सहायता से बोले जाने वाले वर्ण ‘व्यंजन’ कहलाते है| प्रत्येक व्यंजन के उच्चारण में ‘अ’ स्वर मिला होता है| अ के बिना व्यंजन का उच्चारण सभव नही है| परम्परागत रूप से व्यंजनों की संख्या 33 मानी जाती है| द्विगुण व्यंजन जोड़ देने पर इनकी संख्या 35 हो जाती है| (ड ढ)

 

व्यंजनों की वर्गीकरण 

 

स्पर्श व्यंजन :  जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय हवा फेफड़ों से निकलते हुए मुह के किसी स्थान विशेष -कंठ तालू मूर्धा दांत या होंठ का स्पर्श करते हुए निकले | 

 

उच्चारण के स्थान पर स्पर्श व्यंजन के वर्ग है:

क वर्ग (कण्ठ्य) – क ख ग घ ड 

च वर्ग (तालव्य)-  च छ ज झ

ट वर्ग(मूर्धन्य) – ट ठ ड ढ ण 

त वर्ग(दन्त्य) – त थ द ध न 

प वर्ग (ओष्ठ्य) – प फ ब भ म 

 

घोषत्व के आधार पर

घोषत्व के आधार पर घोष का अर्थ है| स्वरतन्त्रियों में ध्वनी का कंपन|

 

अघोष : जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियों में ध्वनी का कंपन न हो | (हर वर्ग का पहला और दूसरा व्यंजन)

सघोष : जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियों में ध्वनी का कंपन हो |(हर वर्ग का तीसरा और पांचवां व्यंजन) 

 

प्राणत्व के आधार पर 

यहाँ प्राण का अर्थ हवा से है|

अल्पप्राण : जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से कम हवा निकले (हर वर्ग का पहला तीसरा और पांचवां व्यंजन| 

महाप्राण : जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से अधिक हवा निकले|(हर वर्ग का दूसरा और चौथा व्यंजन) 

 

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से स्नातक Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.