United Nations Organisation History in hindi- संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO)

गणतंत्र दिवस समारोह 2021- 72 india republic day 2021

gk questions in hindi 2021-टॉप 20 जीके QUCTION AND ANSWER CHSL CGL SSC GD SSC DELHI POLICE

दोस्तों आपका हमारी WEBSITE में स्वागत है| आज हमे इस आर्टिकल में सयुंक्त राष्ट्र संघ के बारे में जानकारी दी है, जो की आपके सामान्य ज्ञान बढ़ाने के सहायता करेगी| यह जानकरी आपको आने वाले सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की सफलता के लिए मददगार साबित हो सकती है| 

संयुक्त राष्ट्र संघ

-संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 24 अक्टूबर 1945 को हुई थी| संयुक्त राष्ट्र संघ के संस्थापक सदस्य देशों की संख्या 51 थी 26 जून, 1945 को अधिकार पत्र पर केवल 50 राष्ट्रों के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए थे| बाद में इस पर हस्ताक्षर कर पोलैंड 51 वां संस्थापक सदस्य देश बना|


-संयुक्त राष्ट्र अथवा यूनाइटेड नेशन का नाम अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट द्वारा दिया गया|  इसका प्रधान कार्यालय न्यूयॉर्क में है और इसके सदस्यों की वर्तमान संख्या 193 है| वर्ष 2011 में दक्षिण सूडान (193वां) इसका नवीनतम सदस्य राष्ट्र बना| 

-संयुक्त राष्ट्र की छ: आधिकारिक भाषाएं हैं अंग्रेजी, चीनी ,रूसी, अरबी और स्पेनिश| प्रारंभ में इसकी कार्यकारी भाषाएं अंग्रेजी और फ्रेंच थी|   बाद में अरबी, चीनी, रुसी और स्पेनिश को भी जोड़ दिया गया|

-नीदरलैंड (हेग) में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय स्थित है, तथा बाकी सभी पाँचों अंग संयुक्त राष्ट्र के न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में है|

संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख अंग

महासभा- यहां संयुक्त राष्ट्र का एकमात्र अंग है, जिसमे संघ के सभी सद्स्य देशों को सदस्यता प्राप्त है| एवं उन्हें समान मताधिकार दिया गया है| इसे विश्व की लघु संसद भी कहा जाता है| इसका अधिवेशन वर्ष में कम-से-कम एक बार अवश्य बुलाया जाता है| जो सामान्यत: सितम्बर माह में न्यूयॉर्क में होता है| 

सुरक्षा परिषद

 -सुरक्षा परिषद विश्व शांति एवं सुरक्षा से संबंधित राष्ट्र संघ के दायित्वों को पूरा करने वाले आदेशात्मक संस्था है|

 -इसके बाद स्थाई सदस्य हैं:- अमेरिका, ब्रिटेन चीन, फ़्रांस तथा रूस| जब तक सुरक्षा परिषद का अस्तित्व है,तब तक इन पदों की स्थाई सदस्य बनी रहेगी| 

-सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्य भी होते हैं, जिन्हें महासभा द्वारा 2 वर्षों के लिए चुना जाता है| अंग्रेजी वर्णमाला के अक्षरों के क्रम में सभी देश एक-एक मास के लिए सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करते हैं|

-सुरक्षा परिषद के प्रत्येक स्थाई सदस्य को निषेधअधिकार (veto) प्राप्त है| इस व्यवस्था के अनुसार यदि 5 सदस्यों में से कोई एक भी किसी महत्वपूर्ण निर्णय के पक्ष में वोट दे देता है, तो वह विषय अस्वीकृत समझा जाएगा|

आर्थिक एवं सामाजिक परिषद

 -इस परिषद में 54 सदस्य होते हैं|

– इसके कार्यों में युद्ध एवं शस्त्र की राजनीति को छोड़कर अंतरराष्ट्रीय महत्व के विषय आते हैं| यह आर्थिक सामाजिक शिक्षा तथा स्वास्थ्य से संबंधित विभिन्न समस्याओं का अध्ययन कर उन पर रिपोर्ट तैयार करती है, तथा उससे संबंधित सुझाव महासभा एवं अन्य संबंधित संस्थाओं को भेजती है|

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय

-इसमें 15 सदस्य होते हैं, जो महासभा एवं सुरक्षा परिषद द्वारा निर्वाचित किए जाते हैं| इसका मुख्यालय हेग (नीदरलैंड्स) में है|

-अंतर्राष्ट्रीय विधि के क्षेत्र में मान्यता प्राप्त व्यक्ति है न्यायाधीश के रूप में चुने जाते हैं| न्यायाधीशों का कार्यकाल 9 वर्ष का होता है, एवं उनके द्वारा चुने जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है|

न्यास परिषद 

-इस परिषद के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र का उन राष्ट्रों के प्रशासन एवं सुरक्षा से संबंधित दायित्व स्पष्ट होता है, जो द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात भी स्वतंत्र नहीं हो पाए|

– इसमें 11 राज्य रखे गए, जिसमें दूस या तो स्वतंत्र हो गए हैं या तो स्वाधीन राष्ट्रों के साथ शामिल है| अंतिम नया क्षेत्र  पलाऊ द्वारा वर्ष 1993 में स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद में आज परिषद द्वारा 1 नवंबर 1993 को ऑपरेशन में निलंबित कर दिया गया है| 

सचिवालय 

-यहां संयुक्त राष्ट्र का प्रशासनिक अंग है

-सचिवालय में एक महासचिव तथा अन्य कर्मचारी होते हैं| महासचिव की नियुक्ति 5 वर्ष के लिए सुरक्षा परिषद की सिफारिश पर महासभा द्वारा की जाती है| जनवरी 2007 से दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री बान की मून संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव है|

संयुक्त राष्ट्र संघ में विशिष्ट पदों पर रहे भारतीय 



श्रीमती विजयलक्ष्मी पंडित अध्यक्ष सयुंक्त राष्ट्र महासभा
अबुल कलाम आजाद अध्यक्ष यूनेस्को
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णनन अध्यक्ष, यूनेस्को
डॉ एच जे भाभा अध्यक्ष, कॉन्फ्रेंस ऑन पिसपुल युसिस ऑफ़ एटोमिक एनर्जी
वीआर सेन अध्यक्ष, फ़ूड एंड एग्रीकल्चर अर्गेनायीजेशन (FAO)
अमृत कौर अध्यक्ष, डब्ल्यू अच् ओ
नगेंद्र सिहं न्यायधीश, अतंर्राष्ट्रीय न्यायलय
वीएन राव न्यायधीश, अंतर्राष्ट्रीय न्यायलय, भारत के प्रतिनिधि
आर एस पाठक न्यायधीश, अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय
दलबीर भंडारी न्यायधीश अंतर्राष्ट्रीय न्यायलय
आर के पचौरी अध्यक्ष आई.पी.सी.

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से स्नातक Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.