400 Important Paryayvachi Shabd in hindi (पर्यायवाची शब्द)- Hindi Grammar

Important Paryayvachi Shabd in hindi

paryayvachi shabd hindi mein

नमस्कार दोस्तों आपका हमारी website में स्वागत है| आज हमने इस पोस्ट में पर्यायवाची शब्दों paryayvachi shabd hindi mein का विवरण किया है| जो आपके सामान्य ज्ञान को बढ़ाने का एक प्रयास है| तथा इन शब्दों का अधयन्न paryayvachi shabd hindi mein करने से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं में सहायक सिद्ध हो सकते है| 

Hindi Mein Paryayvachi Shabd

 

हिंदी वर्णमाला स्वर व्यंजन 

विश्व हिंदी सम्मेलन 2021 

शब्द पर्यायवाची शब्द
इश्वरप्रभु, भगवान, जगदीश, दीनबन्धु
पक्षीखग, विहग, चिड़िया, नभचर
बादलधन, जलधर, वारिद, नीरद।
गंगासुरसरि, जाह्रबी, त्रिपथगा, देवनदी, विष्णुपदी।
चन्द्रमाशशि, मयंक, निशाकर, सुधाकर, सुधांशु, सोम हिमांशु, राकेश।
जलपानी, नीर, लोभ, अम्बु, सलिल, क्षीर, वारि।
इंद्रसुरपति, देवेन्द्र, सुरेन्द्र, देवेश।
पुष्पकुसुम, सुमन, प्रसून, सारंग।
पृथ्वीभू, भूमि, धरा, वसुन्धरा, वसुधा, धरती क्षमा, लोक।
कपड़ापट, वस्त्र, चीर, अम्बर, दुकूल।
घरगृह, गेह, निकेतन, आलय, निलय, भवन, शाला, धाम, सदन।
जंगलवन, कानन, अरण्य, विपिन।
तालाबसरोवर, ताल, जलाशय, तड़ाग।
दिनदिवस, वासर, वार।
पहाड़पहाड़, प्रस्तर, पाहन।
पवनवायु, समीर, हवा, मारुत, अनिल।
पुत्रसुत, तनय, पूत, आत्मज
बिजलीतड़ित, चपला, दामिनी।
वृक्ष तरू, रूख, विटप, पेड़।
मनुष्यनर, मानव, मनुज, आदमी।
हाथीकरि, हस्ती, गज।
मित्रसखा, मीत, सहचर, दोस्त।
राजानरेश, नृप, महीप, भूप।
समुद्रसागर, सिन्धु, जलधि, नीरधि।
सरस्वतीशारदा, वागेश्वरी, भारती, महाश्वेता।
साँपपन्नग, सर्प, विषधर, अहि, व्याल
सूर्यदिनकर, दिवाकर, रवि, भानु, भास्कर।
स्त्रीनारी, महिला, दारा, वामा।
शरीर देह, तन, काया, गात, बदन।
गणेशगजानन, गणपति, विनायक, एकदन्त, गजवदन, लम्बोदर, विघ्न नाशक।
घोड़ातुरंग, बाजि, हय, अश्व, घोटक।
युद्ध समर, रण, संग्राम।
सिंहकेसरी, मृगराज, केहरी।
शत्रुअरि, रिपु, बैरी।
विष्णुहरि, कमलेश, रमापति, चक्रपाणि, केशव, माधव, पीताम्बर।
कोषखजाना, भण्डार, निधि
धन दौलत, द्रव्य, मुद्रा।
तलवारकृपाण, असि, खड्ग।
अंगभाग, हिस्सा, अवयव।
चोर तस्कर, दस्यु, रजनीचर।
पत्नीभार्या, दारा, गृहिणी।
पुत्रतनय, सुत, लड़का, बेटा।
पुत्रीतनया, सुता, लड़की, बेटी।।
माता जननी, अम्बा, अम्बिका, अम्मा, माँ, धात्री।
मोरशिखी, नीलकण्ठ, मयूर।
मृत्युमौत, काल, देहान्त।
रक्तरुधिर, शोणित, खून, लहू।
विषजहर, हलाहल, गरल।
सोनाकंचन, स्वर्ण, कनक।
हृदयउर, छाती, वक्ष, वक्षस्थल, हिय, हिया।
सभाअधिवेशन, परिषद्, बैठक, महासभा, समागम, समिति, सम्मेलन।
यमुनाकालिन्दी, कृष्णा, जमुना, रविसुता तनुजा।
आग अग्नि, अनल, पावक, हुताशन, ज्वाला|
आकाश नभ, आसमान, गगन, लोभ|
असुरराक्षस, दानव, निशाचर, दैत्य|
अमृत अभिव, पियूष, सुधा, सोम|
अंधकार अँधेरा, तिमिर, तम, तमिस्त्र|
आँख नेत्र, नयन, नीरज, राजीव|

क वर्ग
 
शब्द पर्यायवाची शब्द
कपड़ा  चीर, बसन, पट, अम्बर, वस्त्र।
कमलकज, पंकज, जलज, सरोज, नीरज, अम्बुज, वारिज,इन्दीवर, राजीव, उत्पल, अरविन्द ।
कमलाइंदिरा, पद्या, पद्यालया, पद्मासना, भार्गवी, रमा, लक्ष्मी, लोकमाता, विष्णुप्रिया, श्री, समुद्रजा, सिंधुजा, हरिप्रिया।
कामदेव  काम, मदन, मनोज, मयन, अनंग, पंचशर, मन्मथ, रतिपति,
कार्तिकेयकुमार, षडानन, शरभव, स्कन्द ।
किरणरश्मि, मयूख, मरीचि, अंशु, कर, ज्योति, दीप्ति, प्रभा ।
कुबेरअनद, यक्षराज, धनाधिप, किन्नरेश, राजराज ।
कोकिला    कोयल, पिक, बसन्तदूत, कोकिला, परभूत
कपोतकबूतर, हारीत, रक्तलोचन।
कुताश्या, श्वान, कुक्कुर, शुनक, सारमेव
कृष्ण मोहन, मुरारी, गोपाल, गिरिधर, केशव, वासुदेव, नन्दनन्दन,राधारमण, दामोदर, ब्रजवल्लभ, गोपीनाथ, मुरलीधर, द्वारिकाधीश, यदुनन्दन, कंसारि, रणछोड, बशीधर ।
कल्पद्रुमदेवदुम, कल्पवृक्षा, पारिजात, मन्चार, हरिचन्दन
काककौआ, बायस, काग, करठ, पिशुन
कृपा दया, अनुग्रह, अनुकम्पा
क्रोध  कोप, रोष, अमर्ष, गुस्सा, आक्रोश।
खग  विहग, विहग, पक्षी, द्विज, चिड़िया. पठी, शकुनि, पखेरू
खंभाखेमा स्तूप, स्तम्भ, खम।
खलदुर्जन, दुष्ट, भूत, कुटिल।
खूनरक्त, लहू, शोणित, रुधिर
गंगा देवनदी जावी, देवपगा, त्रिपथगा, विष्णुपदी, नदीश्वरी।
गणेशगणपति, गजबदन, गजानन, लम्बोदर, एकदन्त, भवानीनन्दन,वक्रतुण्ड, गौरीसुत, मोदकप्रिय, विनायक
गरुडखगेश, पन्गानारि, उरगारि, सरिबान, वातनेय, खगपति,सुपर्ण, विषमुख।
गदहाखर, गर्दभ, बैसाखनन्दन, रासभ, धूसर, वेशर, चक्रीवान ।
गेहभवन, सदन, पर, मन्दिर, निकेतन, आवास, निवास, धाम,गृह, आलय, आगार, ओक, निलय ।
गायगौ, बेन सुरभि, गौरी, भद्रा, दोग्धी।
घट घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घरआल्य, आवास, गेह, गृह, निकेतन, निळ्य, निवास, भवन,वास, वास स्थान, शाला, सदन ।
घृत घी, अमृत, नवनीत।
घासतृण, दूर्वा, दूध, कुश, शाद।
  
  
च वर्ग 
शब्द पर्यायवाची शब्द
चतुर विज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीन, योग्य|
चन्द्रमासोम, सुधांशु, राकापति, द्विजराज, विधु, ,मयंक, सुधाकर, निशाकर, शशी, राकेश, हिमकर, कलाधर, इंदु, मृगांक
चन्द्रिकाचांदनी, ज्योत्सना, कैमुदी
चांदीरजत, सौध, रूपा, रूपक रौप्य, चन्द्रहास|
चोटी मूर्धा, शीश, सानु,श्रृंग|
चोरखनक, दस्यु, साहसिक,रजनीचर, मोषक|
धरतीछत्र, छाता, इत्ता।
छलीछलिया, कपटी, धोखेबाज
छविशोभा, सौंदर्य, काति, प्रभा।
छानवीनजाव, पूछताछ, खोज, अन्वेषण, शोध, गवेषण
छैला सजीर, बाँका, शौकीन
छोर नोक, कोर, किनारा, सिरा।
जलपानी, नीर, अनु सनित, अमृत, तोय, उतक, वारिया
जंगल विपिन, कानन, अरण्य, धन
जहाजपोत, जलयान।
जानकीसीता, वैदेही, जनकसुता, जनकतनया, जनकालजा।
झरनाउत्स, खोत, अपात, निर्झर, प्रखवण।
झंडाध्वजा, पताका, केतु।
  
  
ट वर्ग 
शब्द पर्यायवाची शब्द
टक्कर मुठभेड़, उहाई, मुकाबला
टहलुआ नौकर, सेवक, खिदमतगार।
टांग पाँव, पैर, टंक।
टिका तिलक, पिड दाग, धब्या।
टोना टोटका, जादू, यंत्रमंत्र, उटका।
ठंड शीत, सरदी।
ठग छली धूर्त , धोखेबाज़।
ठांव स्थान, जगह, ठिकाना।
ठिंगना बौना, वामन, नाटा|
ठीक उपयुक्त,उचित, मुनासिव
ठेठ निपट, निरा,बिलकुल
डंडा सोंटा,छड़ी, लाठी|
डालीभेंट,उपहार
ढबढंग,रीती, तरीका, ढर्रा|
ढांचा पंजर,ठठरी
ढील शिथिलता, सुस्ती, अतत्परता|
ढूढ खोज, तलाश|
ढोर चौपाया, मवेशी|
  
त वर्ग 
शब्द पर्यायवाची शब्द
तरकस तूण, तूणीर, त्रोण, निषंग, इथुधी।
तलवार असि, करवाल, चन्द्रहास, बरग, कृपाण शमशीर।
तालाब सर, सरोवर, पुष्कर, जलाशय, तडाग, पद्माकर दव, सरसी।
तामरस कमल, पंकज, सरसिज, नीरज, पुण्डरीक, इन्दीवर ।
तिमिरतिमिर तम, अधकार, अंधेरा, तमिया।
तीरतीर शार, बाण, सायक, नाराच, शिलीमुख
तोताशुक, कीर, मुआ. सुग्गा, रक्ततुण्ड, दाड़ियप्रिय।
थोडाथोड़ा अल्प, न्यून, जरा, कम।
यातीजमापूंजी, धरोहर, अमानत
थाक ढेर. समूह।
थप्पड़ तमाचा, झापड़।
दांत दन्त, दशन, द्विज, रद, रदन
दयाअनुकंपा, अनुग्रह, करुणा, कृपा, प्रसाद, संवेदना, सहानुभूति,
दास नौकर , सेवक, अनुचर, चाकर, मृत्व, परिचारक, किंकर।
दिन दिन, दिवा, दिवस, वासर।
दीन दरिद्र, रंक, कंगाल, अकिंचन, निर्धन
दुःख शोक चेदना, कष्ट, पीड़ा, सेताप, खेद, यातना, संकट
दुर्गा चण्डिका, सिंहवाहिनी, कालिका, कल्याणीकुमारी, कामाक्षी,
दूध दुग्ध, पय,क्षीर,अमृत
देवअमर, देवता, सुर, निर्जर, वृन्दारक, आदित्य|
द्रव्य धन, संपति, दौलत, विभूति, सम्पदा, वित्|
धनद्रव्य, वित्, दौलत, सम्पदा, सम्पति, विभूति
धनुषधनु, कोदंड, शरासन, पिनाक,सारंग, चाप, कमान|
धरतीभू, धरा, पृथ्वी, अवनि, वसुधा, वसुंधरा, मेदनी, इला|
नदीसारिता, तटनि, आपगा, वाहिनी|
नर्कयमलोक, यमपुर, नर्क, यमालय|
नरजन, ,मानव, मनुष्य, मनुज|
नावनौका, पतंग, तरिणी, बेडा, नैया, तरी, जलयान|
निंदा दोषापण, फटकार, बुराई|
नेत्रआँख, लोचन, नयन, अक्षि, चश्म,आँख|

privacy shabd अच्छे लगे हो तो शेयर करना न भूलें |

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से स्नातक Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.