Famous Freedom Struggle Movement in himachal pradesh

Famous Freedom Struggle Movement in himachal pradesh

1.Himachal Pradesh’s Movement for Freedom Struggle In Hindi

नमस्कार दोस्तों आपका हमारी वेबसाईट में स्वागत है| आज हमने अपने इस लेख में Himachal Pradesh’s Movement for Freedom Struggle In Hindiके बारे में जानकारी दी है| जो आपके लिए काफी सहायक सिद्ध होने वाली है| यह आपकी आने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं के दृष्टिकोण से काफी सहायक सिद्ध हो सकती है|

2.हिमाचल प्रदेश का इतिहास(स्वतंत्रता संग्राम एवं क्षेत्रीय आंदोलन)

(i) 1857 ई. से पूर्व की घटना– लाहौर संधि से पहाड़ी राजाओं का अंग्रेजों से मोह भंग होने लगा क्योंकि अंग्रेजों ने उन्हें उनकी पुरानी जागीरें नहीं दीं। दूसरे ब्रिटिश-सिख युद्ध (1848 ई.) में काँगड़ा पहाड़ी की रियासतों ने सिखों का अंग्रेजों के विरुद्ध साथ दिया। नरपुर, काँगड़ा, जसवाँ और दतारपुर की पहाड़ी रियासतों ने अंग्रेजों के खिलाफ 1848 ई. में विद्रोह किया जिसे कमिश्नर लारेंस ने दबा दिया। सभी को गिरफ्तार कर अल्मोड़ा ले जाया गया जहाँ उनकी मृत्यु हो गई। नूरपुर के वजीर राम सिंह पठानिया अंग्रेजों के लिए टेढ़ी खीर साबित हुए। उन्हें शाहपुर के पास “डाले की धार” में अंग्रेजों ने हराया। उन्हें एक ब्राह्मण पहाड़चंद ने धोखा दिया था। वजीर राम सिंह पठानिया को सिंगापुर भेज दिया गया जहाँ उनकी मृत्यु हो गई।

(ii)1857 ई. की क्रांति-हि.प्र. में कम्पनी सरकार के विरुद्ध विद्रोह की चिंगारी सर्वप्रथम कसौली सैनिक छावनी में भड़की। शिमला हिल्स के कमाण्डर-इन-चीफ 1857 ई. के विद्रोह के समय जनरल एन्सन और शिमला के डिप्टी कमिश्नर लार्ड विलियम हे थे। शिमला के जतोग में स्थित नसीरी बटालियन (गोरखा रेजीमेण्ट) के सैनिकों ने विद्रोह कर दिया । कसौली में 80 सैनिकों (कसौली गार्ड के) ने विद्रोह कर सरकारी खजाने को लूटा। इन सैनिकों का नेतृत्व सूबेदार भीम सिंह कर रहे थे। कसौली की सैनिक टुकड़ी खजाने के साथ जतोग में नसारी बटालियन से आ मिली। शिमला में ये अफवाह फैल गई कि विद्रोही सैनिक शहर को लूटने आ रहे हैं।

Himachal Pradesh’s Movement for Freedom Struggle In Hindi-हिमाचल प्रदेश का इतिहास

* पहाड़ी राज्यों द्वारा अंग्रेजों की सहायता करना-क्योंथल के राजा ने शिमला के महल और जुन्गा में अंग्रेजों को शरण दी। कोटी और बल्सन राज्यों ने भी अंग्रेजों की सहायता की। बिलासपुर राज्य के सैनिकों ने बालूगंज, सिरमौर राज्य के सैनिकों ने बड़ा बाजार में अंग्रेजों की सहायता की। भागल के मियां जय सिंह, धामी, भज्जी और जुब्बल के राजाओं ने भी अंग्रेजों का साथ दिया। चम्बा के राजा श्री सिंह ने मियां अवतार सिंह के नेतृत्व में डलहौजी में अपनी सेना अंग्रेजों की के लिए भेजी।

* क्रांतिकारी-1857 ई. के विद्रोह के समय सबाथू के ‘राम प्रसाद बैरागी’ को गिरफ्तार कर अम्बाला भेज दिया गया जहाँ उन्हें मृत्युदण्ड दे दिया गया। जून 1857 ई. में कुल्लू में प्रताप सिंह के नेतृत्व में विद्रोह हुआ जिसमें सिराज क्षेत्र के नेगी ने सहायता प्रताप सिंह और उसके साथी वीर सिंह को गिरफ्तार कर धर्मशाला में 3 अगस्त, 1857 ई. को फाँसी दे दी गई।

* बुशहर रियासत का रुख-सिब्बा के राजा रामसिंह, नदौन के राजा जोधबीर चंद और मण्डी रियासत के वजीर घसौण ने अंग्रेजों की मंदद की। बुशहर रियासत हि.प्र. की एकमात्र रियासत थी जिसने 1857 ई. की क्रांति में अंग्रेजों का साथ नहीं दिया और न ही किसी प्रकार की सहायता की | सूबेदार भीम सिंह ने कैद से भागकर बुशहर के राजा शमशेर सिंह के यहाँ शरण ली थी। शिमला के डिप्टी कमिश्नर विलियम हे बुशहर के राजा के खिलाफ कार्यवाही करना चाहते थे परन्तु हिन्दुस्तान-तिब्बत सड़क के निर्माण की वजह से और सैनिकों की कमी की वजह से राजा के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं हो सकी। 

1857 ई. की क्रांति को अंग्रेजों ने पहाड़ी शासकों की सहायता से दबा दिया। इसमें विलियम हे ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। अंग्रेजों ने गोरखों और राजपूत सैनिकों में फूट डलवाकर सभी सड़कों की नाकेबंदी कर दी। सूबेदार भीम सिंह सहित विद्रोही सैनिकों को कैद कर लिया गया। सूबेदार भीम सिंह भागकर रामपुर चला गया। परन्तु जब उसे विद्रोह की असफलता का पता चला तो उसने आत्महत्या कर ली।

(iii) दिल्ली दरवार-1877 ई. में लार्ड लिटन के कार्यकाल में दिल्ली दरबार का आयोजन किया गया इसमें चम्बा के राजा श्याम सिंह, मण्डी के राजा विजाई सेन और बिलासपुर के राजा हीराचंद ने भाग लिया 1911 में दिल्ली को कलकत्ता के स्थान पर भारत की राजधानी बनाया गया। इस अवसर पर दिल्ली में दरबार लगाया गया। इस दरबार में सिरमौर के राजा अमर प्रकाश, बिलासपुर के राजा अमर चंद, क्योंथल के राजा विजाई सेन, सुकेत के राजा भीमसेन, चम्बा के राजा भूरी सिंह, भागत के राजा दीप सिंह और जुब्बल के राणा भगत चंद ने भाग लिया।

(iv) मण्डी षड्यंत्र-लाला हरदयाल ने सैनफ्रांसिस्को (यू.एस.ए.) में गदर । फैल गए। मियाँ जवाहर सिंह और मण्डी की रानी खैरगढ़ी इनके प्रभाव में आ गई। दिसम्बर, 1914 और जनवरी 1915 को इन्होंने गदर पार्टी के नेतृत्व में हुआ।, गदर पार्टी के कुछ सदस्य अमेरिका से आकर मण्डी और सुकेत में कार्यकर्ता भर्ती करने के लिए फ़ैल गए| मियां जवाहर सिहं और मंडी की रानी खैरगढ़ी इनके प्रभाव में आ गई| दिसम्बर,1914 में जनवरी 1915 को इन्होने मंडी के सुपरिटेडेंट और वजीर की हत्या, कोषागार की लुटने और ब्यास पुल को उड़ाने की योजना बनाई| नागचला डकैती के आलावा गदर पार्टी के सदस्य किसी और योजना में सफल नहीं हो सके| इस आंदोलन को दबा दिया गया। रानी खैरगढ़ी को देश निकाला दे दिया गया। भाई हिरदा राम को लाहौर षड्यंत्र केस फांसी दे दी गई। सुरजन सिंह और निधान सिंह चुग्धा को नागचला डकैती के झूठे मुकदमे में फाँसी दे दी गई। मण्डी के हरदेव गदा पार्टी के सदस्य बन गए और बाद में स्वामी कृष्णानंद के नाम से प्रसिद्ध हुए।

* पहाड़ी गाँधी बाबा कांशीराम1920 के दशक में शिमला में अनेक राष्ट्रीय नेताओं का आगमन हुआ।महात्मा गांधी पहली बार 1921 ई. में शिमला आए और शांति कुटीर समर हिल में रूके। नेहरू, पटेल आदि नेता यहाँ अकसर आते रहे। वर्ष 1977 ई. में सुजानपुर टीहरा के ‘ताल’ में एक सम्मेलन हुआ जिसमें पुलिस ने लोगों की निर्मम पिटाई की। ठाकुर हजारा सिंह, बाबा कांशीराम, चतर सिंह को भी इस सम्मेलन में चोटें लगीं। बाबा कांशीराम ने इस सम्मेलन में शपथ ली कि वह आजादी तक काले कपड़े ही पहनेंगे बाबा काशीराम को ‘पहाड़ी गांधी’ का खिताब 1937 में गदड़िवाला जनसभा में पं. जवाहर लाल नेहरू ने दिया। उन्हें सरोजनी नायड ने ‘पहाड़ी बुलबुल’ का खिताब दिया।

3.हिमाचल प्रदेश के प्रजा मण्डल आंदोलन

1.आल इण्डिया स्टेट पीपल कॉन्फ्रेस (AISPC) की स्थापना 1927 ई. में बम्बई में हुई। इसके पीछे मुख्य उद्देश्य विभिन्न प्रजामण्डलों के बीच समन्वय स्थापित करना था। सर हारकोर्ट बटलर इसके प्रणेता था।

2.बिलासपुर राज्य प्रजामण्डल (BRPM)-दौलत राम सांख्यान, नरोत्तम दत्त शास्त्री, देवीराम उपाध्याय ने ऑल इण्डिया स्टेट पीपल कॉन्फ्रेस (AISPC) के 1945 ई. के उदयपुर अधिवेशन में भाग लेने के बाद 1945 ई. में बिलासपुर राज्य प्रजामण्डल की स्थापना की।

3.चम्बा-‘चम्बा पीपल डिफेंस लीग’ की 1932 ई. में लाहौर में स्थापना की गई। ‘चम्बा सेवक संघ’ की 1936 ई. में चम्बा शहर में स्थापना की गई।

4.हिमालयन रियासती प्रजामण्डल (HRPM) की स्थापना 1938 ई. में की गई। पं. पद्म देव इसके सचिव थे। इसकी स्थापना शिमला में हुई।

5.HHSRC-मण्डी में 8 से 10 मार्च 1946 ई. को 48 पहाड़ी राज्यों का (शिमला से लेकर टिहरी गढ़वाल तक) हिमालयन हिल स्टेट रीजनल काउंसिल (HHSRC) का अधिवेशन हुआ। प्रजामण्डलों को 1946 ई. के AISPC (आल इण्डिया स्टेट पीपल कॉफ्रेंस) के उदयपुर अधिवेशन में HHSRC (हिमालयन हिल स्टेट रीजनल काउसिल) में जोड़ा गया। मण्डी के स्वामी पूर्णनंद इसके अध्यक्ष, पं. पदम देव (बुशहर) इसके महासचिव और पं. शिवानंद रमौल इसके सह सचिव बने। HHSRC का मुख्यालय शिमला में था। 31 अगस्त से 1 सितम्बर, 1946 को HHSRC का सम्मेलन नाहन में हुआ जिसमें पुनः चुनाव की मांग उठी। 1 मार्च, 1947 को AISPC के ऑफिस सचिव श्री एच. एल. मशूरकर के पर्यवेक्षण में चुनाव हुए। डॉ. वाई. एस. परमार को HHSRC का अध्यक्ष और पं. पद्म देव को महासचिव चुना गया। HHSRC के कुछ सदस्यों में मतभेद के बाद शिमला और पंजाब हिल स्टेट के 6 सदस्यों ने हिमालयन हिल्स स्टेट सब रीजनल काउंसिल (HHSSRC) का गठन किया जो कि HHSRC की समानांतर न होकर उसका भाग थी। HHSSRC के अध्यक्ष वाई. एस. परमार और महासचिव पं. पदम देव बने।

6.अन्य प्रजामण्डल-1933 में लाहौर में कुल्लू पीपल लीग का गठन हुआ। वर्ष 1936 में मण्डी प्रजामण्डल की स्थापना हुई। वर्ष 1938 ई. में बाघल प्रजामण्डल का गठन हुआ। वर्ष 1939 में कुनिहार प्रजामण्डल का गठन हुआ। वर्ष 1946 में बलसन रियासती प्रजामण्डल का गठन हुआ। वर्ष 1939 ई. में शिमला हिल स्टेट कॉन्फ्रेंस हुई। सिरमौर प्रजामण्डल की स्थापना 1939 ई. में हुई। धामी रियासती प्रजामण्डल की स्थापना 13 जुलाई 1939 ई. को हुई। प्रेम प्रचारणी सभा, धामी 1937 में हुई। सिरमौर रियासती प्रजामण्डल की स्थापना 1944 ई. में हुई।

4.हिमाचल प्रदेश के जन आन्दोलन के बारे में जानकारी

1. दूजम आंदोलन (1906)-1906 ई. में रामपुर बुशहर में दूजम आंदोलन चलाया गया जो कि असहयोग आंदोलन का प्रकार था।

2.कोटगढ़-कोटगढ़ में सत्यानंद स्टोक्स ने बेगार प्रथा के विरुद्ध आंदोलन किया।

3. हिमाचल का “भाई दो,न पाई” आन्दोलन-1938 में हिमालयन रियासती प्रजामण्डल ने भाई दो, ना पाई आंदोलन शुरू किया। यह सविनय अवज्ञा आंदोलन की अभिवृद्धि थी। इसमें ब्रिटिश सेना को न तो भर्ती के लिए आदमी देना और न युद्ध के लिए पैसों की सहायता देना।

4.बिलासपुर का झुग्गा आंदोलन1883 से 1888 ई. में बिलासपुर में राजा अमरचंद के विरोध में झुग्गा आंदोलन हुआ। राजा के अत्याचारों का विरोध करने के लिए गेहड़वी के ब्राह्मण झुग्गियाँ बनाकर रहने लगे और झुग्गों पर इष्ट देवता के झण्डे लगाकर कष्टों को सहते रहे और राजा के गिरफ्तार करने से पहले ही ब्राह्मण झुग्गों में आग लगाकर जल मरे। जनता भड़क गई और अंत में राजा को बेगार प्रथा खत्म कर प्रशासनिक सुधार करने पड़े।

5.Dhami Movement In Himachal Pradesh(धामी गोलीकांड हिमाचल प्रदेश)16 जुलाई, 1939 में धामी गोली कांड हुआ। 13 जुलाई, 1939 ई. को शिमला हिल स्टेट्स हिमालय रियासती प्रजामण्डल के नेता भागमल सौठा की अध्यक्षता में धामी रियासतों के स्वयंसेवकों की बैठक हुई। इस बैठक में धामी प्रेम प्रचारिणी सभा पर लगाई गई पाबंदी को हटाने का अनुरोध किया, जिसे धामी के राणा ने मना कर दिया। 16 जुलाई, 1939 में भागमल सौठा के नेतृत्व में लोग धामी के लिए रवाना हुए। भागमल सौठा को घणाहट्टी में गिरफ्तार कर लिया गया। राणा ने हलोग चौक के पास इकटठी जनता पर घबराकर गोली चलाने की आज्ञा दे दी, जिसमें 2 व्यक्ति मारे गये व कई घायल हो गए। महात्मा गांधी की आज्ञा पर नेहरू ने दुनीचंद वकील को इस घटना की जांच के लिए नियुक्त किया।

6.पझौता आंदोलन किस जिले में हुआ था-पझौता आंदोलन सिरमौर के पझौता में 1942 ई. को हुआ। यह भारत छोड़ो आंदोलन का भाग था। सिरमौर रियासत के लोगों ने राजा के कर्मचारियों की घूसखोरी व तानाशाही के खिलाफ “पझौता किसान सभा” का गठन किया। आंदोलन के नेता लक्ष्मी सिंह, वैद्य सूरत सिंह, मियां चूचूँ, बस्ती राम पहाड़ी थे। सात माह तक किसान नेताओं और आंदोलनकारियों ने पुलिस और सरकारी अधिकारी को पझौता में घुसने नहीं दिया। आंदोलन के दौरान पझौता इलाके में चूचूँ मियाँ के नेतृत्व में किसान सभा का प्रभुत्व स्थापित हो गया। सेना ने बाद में इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

7.कुनिहार संघर्ष-1920 में कुनिहार के राणा हरदेव के विरुद्ध आंदोलन हुआ। गौरी शंकर और बाबू कांशीराम इसके मुख्य नेता थे। राणा ने कुनिहार प्रजामण्डल को अवैध घोषित कर दिया। 9 जुलाई, 1939 ई. को राणा ने प्रजामण्डल की मांगें मान लीं।

8.अन्य जन आंदोलन-मण्डी में 1909 में शोभा राम ने राजा के वजीर जीवानंद के भ्रष्टाचार के विरुद्ध आंदोलन किया। शोभा राम को गिरफ्तार कर अण्डमान भेज दिया गया। रामपुर बुशहर में 1859 में विद्रोह हुआ। सुकेत में 1862 और 1876 ई. में राजा ईश्वर सिंह और बजीर गुलाम कादिर के विरुद्ध आंदोलन हुआ। बिलासपुर में 1883 और 1930 में किसान आंदोलन हुआ। सिरमौर में राजा शमशेर प्रकाश की भूमि बंदोबस्त व्यवस्था के खिलाफ 1878 ई. में भूमि आंदोलन हुआ। चम्बा के भटियात में बेगार के खिलाफ 1896 में जन आंदोलन हुआ तब चम्बा का राजा श्याम सिंह था।

(vii) स्वतंत्रता आंदोलन एवं आंदोलनकारी

1.प्रशासनिक सुधार-मण्डी के राजा ने मण्डी में 1933 ई. में मण्डी विधानसभा परिषद् का गठन किया जिसने पंचायती राज अधिनियम पास किया। शिमला पहाड़ी रियासतों में मण्डी पहला राज्य था जिसने पंचायती राज अधिनियम लागू किया। बिलासपुर, बुशहर और सिरमौर राज्यों ने भी प्रशासनिक सुधार शुरू किये।

2.कांग्रेस का गठन – ए. ओ. ह्यूम ने शिमला के रौथनी कैसल में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना का विचार रखा।

3.राष्ट्रीय नेताओं का आगमन-लाला लाजपत राय 1906 ई. में मण्डी आये। थियोसोफिकल सोसाइटी की नेता ऐनी बेसेन्ट 1916 ई. में शिमला आईं। महात्मा गांधी, मौलाना मुहम्मद अली, शौकत अली, लाला लाजपत राय और मदन मोहन मालवीय ने पहली बार 1921 ई. में शिमला में प्रवास किया। मुस्लिम लीग के नेता मोहम्मद अली जिन्ना वायसरॉय लॉर्ड रीडिंग से मिलने शिमला आए। महात्मा गाँधी 1921, 1931, 1939, 1945 और 1946 में शिमला आये। महात्मा गांधी 1945 में मनोरविला (राजकुमारी अमृत कौर का निवास) और 1946 में चैडविक समर हिल में रुके।

4.आंदोलनकारी-ऋषिकेश लट्ठ ने ऊना में 1915 ई. में क्रांतिकारी आंदोलन की शुरुआत की। हमीरपुर के प्रसिद्ध साहित्यकार यशपाल 1918 ई. में स्वाधीनता संग्राम में कूदे। यशपाल को 1932 ई. में उम्र कैद की सजा हुई। वह हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी के चीफ कमाण्डर थे। इण्डियन शाल आर्मी के मेजर मेहर दास को ‘सरदार-ए-जंग’, कैप्टन बक्शी प्रताप का ‘तगमा-ए-शत्रुनाश’ और सरकाघाट के हरी सिंह को ‘शेर-ए-हिंद’ की उपाधि दी गई धर्मशाला के 2 गोरखा भाइयों दुर्गामल और दल बहादुर थापा को दिल्ली में फाँसी दे दी गई। सविनय अवज्ञा आंदोलन चलाते हुए 1930 में बाबा लछमन दास और सत्य प्रकाश “बागी” को ऊना में गिरफ्तार कर लिया गया।

5.1920 के दशक की घटनाएँ-1920 में हिमाचल में असहयोग आंदोलन शुरू हुआ। शिमला में कांग्रेस के प्रथम प्रतिनिधि मण्डल का 1921 ई. में गठन किया गया। देसी रियासत के शासकों ने “चेम्बर ऑफ प्रिन्सेज” (नरेन्द्र मंडल) का 1921 में गठन किया। दिसम्बर, 1921 में इंग्लैण्ड के युवराज “प्रिंस ऑफ वेल्स” के शिमला आगमन का विरोध हुआ।लाला लाजपत राय को 1922 से लाहौर से लाकर धर्मशाला जेल में बंद किया गया। वायसराय लॉर्ड रीडिंग ने 1925 ई. में शिमला में “सेन्ट्रल कौन्सिल चेम्बर” वर्तमान विधानसभा का उद्घाटन किया शिमला और काँगड़ा में 1928 ई. में साइमन कमीशन का भारत आगमन पर विरोध किया गया।

6.गांधी- इरविन समझौता – 1930 ई. में सविनय अवज्ञा आन्दोलन शिमला, धर्मशाला, कुल्लू, उना आदि स्थानों पर शुरू हुआ| महात्मा गांधी खान अब्दुल ग्फ्फर, मदन मोहन मालवीय और डॉ. अंसारी के साथ दूसरी बार शिमला आए और “गांधी इरविन समझौता हुआ| 5 मार्च 1931 को गांधी इरविन समझौता शिमला में हुआ| 

7.भारत छोड़ो आन्दोलन– 9 अगस्त, 1942 को भारत छोड़ो आन्दोलन शुरू हुआ| शिमला, कांगड़ा और अन्य पहाड़ी क्षेत्रों में ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ शुरू हुआ| शिमला से राजकुमारी अमृता कौर  ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ का संचालन करती रही| गांधी जी के जेल में बंद होने पर उनकी पत्रिका ‘हरिजन’ का सम्पादन करती रही| इस आन्दोलन के दौरान शिमला में भागमल सौंठा, पंडित हरिराम, चौधरी दिवानचंद आदि नेता गिरफ्तार किए गए| 

8.बेवल योजना – 14 मई, 1945 को पार्लियामेंट में “बेवल योजना” की घोषणा की गई| वायसराय लार्ड बेवल ने भारत के सभी राजनितिक दलों को 25 जून, 1945 की शिमला में बातचीत के लिए आमंत्रित किया| बेवल सम्मेलन में महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरु, राजेंद्र प्रसाद, सरदार पटेल सहित 21 कांग्रेसी नेता, मुस्लिम लीग के मोहमद अली जिन्ना, लियाकत अली, शाहबाज खां तथा अकाली दल के मास्टर तारा सिहं नें भाग लिया| 

9.स्वाधीन कहलूर दल – बिलासपुर के राजा आनंद चंद ने स्वतंत्रता आन्दोलन को कुचलने के लिए तथा बिलासपुर प्रजामंडल एवं AISPC के खिलाफ ‘स्वाधीन कहलूर दल’ की स्थापना की| आनंद चंद बिलासपुर की स्वतंत्र रखना चाहते थे| कई दौर बातचीत के बाद बिलासपुर के राजा भारत में विलय के लिए राजी हुए| 

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से स्नातक Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

One thought on “Famous Freedom Struggle Movement in himachal pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published.