December 2, 2022

[Metres] Chhand in Hindi – छन्द परिभाषा, भेद और उदाहरण

Chhand in Hindi

one word for many words in hindi

छंद क्या है?

>छंद शब्द ‘छद्’ धातु से बना है जिसका अर्थ है ‘आह्लादित करना’, ‘खुश करना।

>यह आह्लाद वर्ण या मात्रा की नियमित संख्या के विन्यास से उत्पन्न होता है।

>इस प्रकार, छंद की परिभाषा होगी ‘वर्णों या मात्राओं के नियमित संख्या के विन्यास से यदि आह्लाद पैदा हो, तो

उसे छंद कहते हैं।

>छंद का दूसरा नाम पिंगल भी है। इसका कारण यह है कि छंद-शास्त्र के आदि प्रणेता पिंगल नाम के ऋषि थे।

>छंद का सर्वप्रथम उल्लेख ऋग्वेदमें मिलता है।

> जिस प्रकार गद्य का नियामक व्याकरण है, उसी प्रकार पद्य का छंद शास्त्र।

Chhand in Hindi
Chhand in Hindi

छंद कितने प्रकार के होते हैं

» छंद के अंग निम्नलिखित हैं:-

1. चरण/पद/पाद

2. वर्ण और मात्रा

3. संख्या और क्रम

5. गति

6. यति/ विराम

7. तुक

1. चरण/पद/पाद

>छंद के प्रायः 4 भाग होते हैं। इनमें से प्रत्येक को ‘चरण’कहते हैं। दूसरे शब्दों में, छंद के चतुर्थांश (चतुर्थ भाग) कोचरण कहते हैं।

> कुछ छंदों में चरण तो चार होते हैं लेकिन वे लिखे दो ही पंक्तियों में जाते हैं, जैसे—दोहा, सोरठा आदि। ऐसे छंदकी प्रत्येक पंक्ति को ‘दल’ कहते हैं।

>हिन्दी में कुछ छंद छः-छः पंक्तियों (दलों) में लिखे जाते हैं। ऐसे छंद दो छंदों के योग से बनते हैं, जैसे कुण्डलिया (दोहा + रोला), छप्पय (रोला + उल्लाला) आदि।

>चरण 2 प्रकार के होते हैं—सम चरण और विषम चरण ।प्रथम व तृतीय चरण को विषम चरण तथा द्वितीय व चतुर्थ चरण को सम चरण कहते हैं।

2. वर्ण और मात्रा

-एक स्वर वाली ध्वनि को वर्ण कहते हैं, चाहे वह स्वर हस्व विन्यास हो या दीर्घ

-जिस ध्वनि में स्वर नहीं हो (जैसे हलन्त शब्द राजन् का ‘न्’ संयुक्ताक्षर का पहला अक्षर- कृष्ण का ‘ष’) उसे वर्ण

नहीं माना जाता।

-वर्ण को ही अक्षर कहते हैं।

» वर्ण 2 प्रकार के होते हैं

ह्रस्व स्वर वाले वर्ण (ह्रस्व वण) : अ, इ, उ, ऋ; क, कि, कु, कृ

दीर्घ स्वर वाले वर्ण (दीर्घ वर्ण) : आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ.औ; का, की, कू, के, के, को, कौ 

मात्रा

-किसी वर्ण या ध्वनि के उच्चारण-काल को मात्रा कहते हैं।

-ह्रस्व वर्ण के उच्चारण में जो समय लगता है उसे एक मात्रा तथा दीर्घ वर्ण के उच्चारण में जो समय लगता है उसे दो मात्रा माना जाता है । इस प्रकार मात्रा दो प्रकार के होते हैंह्रस्व: अ, इ, उ, ऋ दीर्घ : आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ|

वर्ण और मात्रा की गणना

वर्ण की गणना

-ह्रस्व स्वर वाले वर्ण (ह्रस्व वण)–एकवर्णिक-अ, इ, उ, ऋ; क, कि, कु, कृ

-दीर्घ स्वर वाले वर्ण (दीर्घ वर्ण)-एकवर्णिक-आ, ई, ऊ,

ए, ऐ, ओ, औ; का, की, कू, के, के, को, कौ

मात्रा की गणना

ह्रस्व स्वर – एकमात्रिक अ, इ, उ, ऋ

द्विमात्रिक – आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ

> वर्णों और मात्राओं की गिनती में स्थूल भेद यही है कि वर्ण सस्वर अक्षर’ को और मात्रा ‘सिर्फ स्वर’ को कहते हैं।

लघु व् गुरु वर्ण 

– छंदशास्त्री ह्रस्व स्वर तथा ह्रस्व स्वर वाले व्यंजन वर्ण को लघु कहते है| लघु के लिए प्रयुक्त चिन्ह – एक पाई ररेखा—-|

-इसी प्रकार दीर्घ स्वर तथा दीर्घ स्वर वाले व्यंजन वर्ण को गुरु कहते है| गुरु के लिए प्रयुक्त चिन्ह -एक वर्तुला रेखा -s 

-लधु वर्ण के अंतर्गत शामिल किये जाते है| 

-अ, इ, उ, ऋ

-क, कि, कु, कृ

-आँ   हँ (चन्द्र बिंदु वाले)

-त्य (स्युकंत व्यंजन वाले वर्ण) (नित्य)

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

View all posts by study4upoint →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *