November 28, 2022

बिहार का प्राचीन इतिहास-Ancient History of Bihar In Hindi-Bihar Gk in hindi

Ancient History of Bihar In Hindi

हेलो दोस्तों आपका हमारी वेबसाईट में स्वागत है| आज हमने अपने इस लेख में बिहार का प्राचीन इतिहास-study4upoint-ancient history of bihar in hindi-Bihar Gk in hindi के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी साझा की है| जो आपकी आने वाली सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के दृष्टिकोण से काफी सहायक सिद्ध हो सकती है|

बिहार का प्राचीन इतिहास

बिहार के मुंगेर एवं नालंदा जिलों से लगभग 10000 ई.पु. में विकसित होने वाले आरंभिक पूरापाषाणयुगीन औजारों के अवशेष प्राप्त हुए है|

बिहार में ताम्र पाषण काल का विस्तार सामान्यत: 2500 ई.पु. से 1500 ई.पु. निर्धारित किया गया है| बिहार के सन्दर्भ में साहित्यिक स्त्रोतों में प्रथम जानकारी शतपत ब्राह्मण से मिलती है| 

-मगध का सर्वप्रथम उल्लेख अर्थवेद में मिलता है| इस पर सर्वप्रथम हर्यकवंश ने शासन किया इसकी राजधानी गिरिवज्र थी| 

बिहार में पलिस्टोन काल के पत्थर के बने हुए औजार मिले है| 

बिहार में विश्व की सबसे प्राचीन माने जाने वाली वेद संहिता है| 

-बिहार का प्राचीन इतिहास कई धर्मों से जुड़ा है| बिहार का सीतामढ़ी जिला अर्धांगिनी माता सीता जन्म से जुड़ा है| बौद्ध धर्म बिहार के गया जिला से जुड़ा है| जैन धर्म के संस्थापक भगवान महावीर का जन्म बिहार की मौजूदा राजधानी पटना (पाटलीपुत्र) में हुआ था| सिख धर्म के आखिरी गुरु गोविंद सिहं का जन्म बिहार के पटना साहिब हुआ था| 

-अगर शासन की बात करे तो अंग, मगध और वज्जीसंघ का शासन प्राचीन में रहा है| सम्राट अशोक का शासन करने की शैली विश्व में इतना प्रसिद्ध हुआ था की एलेक्जेंडर (सिकन्दर) ने अधयन्न करने के लिए अपने दूत मेगास्थनीज को पटना भेजा था| 

-प्राचीन काल में पाटलिपुत्र(पटना) भारत की राजधानी था| जनकी राजगीर क्षेत्र मौर्यकालीन राजा बिम्बिसार की राजधानी हुआ करती थी| 

बिहार के बारे में जानकारी हिंदी में

प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय 

– जब दुनिया के बाकी हिस्सों में लोग पढना लिखना नहीं जानते थे| उस समय नालंदा बिहार में विश्वविद्यालय हुआ करता था| इसके कुलपति आर्यभट्ट थे| आर्यभट्ट महान गणितग्य और खगोल के बड़े वैज्ञानिक माने जाते थे| 

– मध्यकाल में बिहार विदेशी शासकों को आक्रमण का केंद्र बना हुआ था, जिस कारण बिहार को उस समय काफी क्षति हुई थी| मुगल काल में भारत की राजधानी दिल्ली थी| उस समय के सबसे लोकप्रिय शासक का नाम शेरशाह सूरी था| सासाराम जिले का नाम  शेरशाह सूरी के नाम पर है| 

– मुगल के बाद ब्रिटिश का शासन शुरू हो गया था| उस समय बिहार बंगाल राज्य का हिस्सा हुआ करता था| जिसका कंट्रोल कोलकाता से होता था| 

Ancient History of Bihar In Hindi

– 22 मार्च 1912 को बंगाल विभाजन के बाद बिहार अलग राज्य बना था लेकिन 1936 में बिहार से उड़ीसा को अलग राज्य बना दिया गया था| आजादी के बाद 1956 में पुरुलिया जिला बिहार से हटाकर पश्चिम बंगाल में जोड़ दिया गया था| 15 नवंबर, 2000 को बिहार से झारखंड को अलग राज्य बनाया गया था| 

-भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति बोधगया में हुई थी| 

-प्रसिद्ध विष्णुमंदिर, बोधगया में स्थापित है|

-सासाराम शेरशाह के मकबरे के लिए प्रसिद्ध है|

विक्रमशिला विश्वविद्यालय के अवशेष भागलपुर के पास है| 

– अशोक के शासनकाल में तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन किया गया था| 

-सूफी सम्प्रदाय फिरदौसी बिहार में सर्वाधिक लोकप्रिय रहा| 

-बिहार में तुर्क सता की स्थापना 1198 में हुई थी| 

-मिथिला के कर्नाट शाशकों की राजधानी सिमरांवगढ़ थी| 

-कर्नाट वंश के अंतिम शासक हरि सिहं थे| 

-शेरशाह द्वारा अफगान शासन की पुनर्स्थापना कन्नौज युद्ध (1540 ई.) के पश्चात् हुई थी| 

गुरु गोविंद सिहं जन्म 1666 ई. में हुआ था

-संत शरफूद्दीन यहना मनेरी का मकबरा पटना जिले में है| 

पाटलीपुत्र की स्थापना उदयन ने की थी| 

द्वितीय बौद्ध संगीति का आयोजन कालाशोक के शासन में किया गया था

-मौर्यकाल में सर्वाधिक प्रसिद्ध शिक्षा केंद्र तक्षशिला था

अशोक के शिलालेख में प्रयुक्त भाषा प्राकृत है| 

मेगस्थनीज के पुरस्तक इंडिका से राजधानी पाटलीपुत्र के नगर प्रशासन एवं सैन्य प्रशासन की जानकारी मिलती है| 

-बिंदुसार आजीवक सम्प्रदाय का अनुयायी था| 

-अशोक के अभिलेखों को सर्वप्रथम जेम्स प्रिन्सेप ने सफलतापूर्वक पढ़ा था| 

-पुष्यमित्र शुंग ने शुंग वंश की स्थापना की| 

-आर्यभट्ट ने गुप्तकाल में आर्यभट्टीयम एवं सूर्य सिंद्धात की रचना की थी| 

-स्कंदगुप्त ने हुणों की पराजित किया था| 

-शेरशाह ने कबुलियत व् पट्टा प्रथा की शुरुआत की थी| 

-भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का 28 वां अधिवेशन बांकीपुर में हुआ था| 

-मगध सम्राज्य के उत्कर्ष का प्रारम्भ बिम्बिसार के अधीन हुआ था| 

-मेगास्थनीज का 315 ई.पू. में पाटलीपुत्र  में आगमन हुआ था| 

-मेगास्थनीज को सेल्यूकस ने चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में भेजा था| 

अर्थशास्त्र के लेखक कौटिल्य थे| 

– धर्मपाल ने विद्या को प्रश्रय देने के क्रम में विक्रमशिला  विश्वविद्यालय की स्थापना की|

-बिहार के सुप्रसिद्ध सूफी संत मखदूम साहब के पत्रों का एक सकंलन मकतूबते सदी नाम से प्रसिद्ध है| 

-सासाराम को शेरशाह का प्रशासनिक प्रयोगशाला कहा जाता है| 

-दाउद खां कर्रानी बिहार का अंतिम अफगान सुल्तान था| 

-राजा शिताबरोय बिहार का प्रथम नायब नाजिम था| 

-बंगाल के नवाब मीर कासिम ने मुंगेर को अपनी राजधानी बनाई| 

-गवर्नर जनरल लॉर्ड कार्नवालिस के समय में बिहार में गोलघर का निर्माण हुआ था| 

-बिहार सोशलिष्ट पार्टी की स्थापना जय प्रकाश नारायण ने 1931 में की थी| 

-पटना उच्च न्यायलय की स्थापना 1916 में हुई थी| 

बिहार पर लेख हिंदी में

-बिहार क्षेत्र की सर्वप्रथम चर्चा शतपथ ब्राह्मण में मिलती है| 

-मजहरुल हक बिहार में होमरूल आन्दोलन के संस्थापक थे| 

-मजरुहल हक को 1914 में कांग्रेस द्वारा इंग्लैण्ड भेजे गये,शिष्टमंडल का सद्स्य बनाया गया था| 

-1919 में बिहार में खिलाफत आन्दोलन प्रारम्भ हुआ था| 

-1920 में बिहार में असहयोग आन्दोलन प्रारम्भ हुआ था| 

-राजेंद्र प्रसाद ने बिहारी क्षात्र परिषद का गठन किया था| 

-बिहार विद्या पीठ का उद्घाटन 6 फरवरी 1921 में हुआ था| 

– आर्यभट्ट का सबंध पाटलीपुत्र नगर से है| 

-बख्तियार खिलजी ने बिहार में तुर्क शासन की स्थापना की थी| 

-मोहमद नुहानी ने बिहार में नुहानी राज्य की स्थापना की थी| 

-1917 में चम्पारण में गांधीजी का बिहार में पहली बार आगमन हुआ था| 

– स्वामी सहजानंद,किसान आन्दोलन के नेता थे| 

-1912 में बिहार एक अलंग प्रांत बना| 

-1936 में बिहार व् ओड़िसा का विभाजन हुआ| 

-मोहमद युनुस 1937 में गठित सरकार में भारत के प्रथम मुख्यमंत्री थे| 

-पी अली ने पटना में 1857 की क्रांति का नेतृत्व किया था| 

-वहाबी नेताओं में अहमदुल्लाह को आजीवन कारवास की सजा मिली थी| 

-1908 में मुज्जफरपुर बमकांड में किंग्सफोर्ड के हत्या का प्रयास किया गया था| 

-बिहार में स्वराज दल का गठन 1923 में हुआ था| 

-1929 में बिहार में किसान सभा का गठन हुआ था| 

-स्वामी सहजानंद सरस्वती बिहार में किसान सभा की संस्थापक थे| 

-भारत छोड़ो आन्दोलन में क्रम में पटना गोलीकांड 11 अगस्त 1942 को हुआ था| 

-मध्यकाल में पटना का निर्माता शेरशाह था| 

-महावीर स्वामी का जन्म स्थानकुंडल ग्राम में है|

– सिख गुरु में सर्वप्रथम बिहार का भ्रमण गुरु नानक देव ने किया था|

– मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय ने ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाली बिहारी हो उड़ीसा की दीवानी का अधिकार प्रदान किया था| 

– सैयद अहमद बहावी आंदोलन का भारत में संस्थापक थे|

– मजहर उल हक ने सदाकत आश्रम(1920) की स्थापना की थी|

– मगध की आरंभिक राजधानी राजगीर थी| 

– मगध साम्राज्य में कलिंग का सर्वप्रथम विलय महापदम नंद ने किया था|

study4upoint

Hello दोस्तों मेरा नाम तापेंदर ठाकुर है। मैं हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से Post Graduate हूँ। मैं एक ब्लॉगर और यूट्यूबर हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में सहायता मिलेगी | आप सबका मेरी वेबसाइट में आने का बहुत धन्यवाद।

View all posts by study4upoint →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *